भाखड़ा ब्यास प्रबन्ध बोर्ड

भाखड़ा ब्यास प्रबन्ध बोर्ड
सर्च

बोर्ड के सदस्‍य

  • श्री संजय श्रीवास्तव

    श्री संजय श्रीवास्तवअध्‍यक्ष

    श्री संजय श्रीवास्तव

    श्री संजय श्रीवास्तव

    अध्‍यक्ष
    श्री संजय श्रीवास्तव, केन्द्रीय विद्युत प्राधीकरण (सीईए) के एक प्रतिष्ठित इंजीनियर, ने 11 नवम्बर, 2020 को भाखडा ब्यास प्रबंध बोर्ड के अध्यक्ष का कार्यभार ग्रहण किया।
  • इंजी.हरमिंदर सिंह चुघ

    इंजी.हरमिंदर सिंह चुघसदस्‍य (विद्युत)

    इंजी.हरमिंदर सिंह चुघ

    इंजी.हरमिंदर सिंह चुघ

    सदस्‍य (विद्युत)

                   इंजी. हरमिन्दर सिंह चुघ ने पीएसपीसीएल, पटियाला से बीबीएमबी चण्डीगढ़ में दिनांक 5.7.2018 को मुख्य अभियंता प्रणाली परिचालन के रूप में कार्यभार ग्रहण किया । इनका जन्म दिनांक 5.10.1962 को हुआ । वर्ष 1984 में इन्होनें आर.ई.सी.के. (RECK) (जो वर्तमान में एनआईटी (NIT) कुरूक्षेत्र है)  से बी.एस.ई. इंजीनियरिंग (मैकेनिकल) की डिग्री प्राप्त की तथा  इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU) से  विपणन प्रबंधन में स्नातकोतर डिप्लोमा प्राप्त किया । इन्होंने वर्ष 1985 में पीएसईबी (अब पीएसपीसीएल) में पदभागर ग्रहण किया । 

               पीएसपीसीएल में दिनांक 22.5.1985 से इन्हें उत्पादन,  वितरण एवं पारेषण संगठनों के सभी पहलुओं पर विभिन्‍न क्षमताओं में कार्य करने का 33 वर्षों का कुशल अनुभव प्राप्त है । पीएसपीसीएल तथा बीबीएमबी में अपने 33 वर्षों में से आज तक, 25 वर्षों का उत्पादन के क्षेत्र में इनका पर्याप्त अनुभव है । अनुभवों का विस्तृत विवरण निम्नानुसार है :-

    1. इन्होंने लगभग 3 वर्ष (1985 से 1988 तक) पीएसपीसीएल के पारेषण संगठन में सहायक अभियंता के रूप में कार्य किया, जिसमें इन्होंने योजना, निगरानी तथा पारेषण एवं उपकेन्द्रों के लिए निधि आबंटन के कार्य किए  ।

    2.  इन्होंने लगभग 5 वर्षों तक पीएसपीसीएल के वितरण संगठन में बतौर सहायक अभियंता के रूप में सेवा की।

    3. इन्होंने 20 वर्षों (1993 से 2012) तक गुरू गोबिन्द सिंह सुपर थर्मल प्लांट (जीजीएसएसटीपी) में विभिन्‍न पदों पर जैसे – सहायक कार्यकारी अभियंता, वरिष्ठ कार्यकारी अभियंता एवं अधीक्षण अभियंता के रूप में जी.जी.एस.एस.टी.पी. के 210 मैगावाट यूनिटों का परिचालन, पी.एल.सी. के परिचालन एवं अनुरक्षण, ड्राई फलाई ऐश की न्युमैटिक  प्रणालीकी निगरानी, एफ.एस.एस.एस. प्रणाली का परिचालन एवं अनुरक्षण, माप प्रणाली तथा जी.जी.एस.एस.टी.पी. के 210 मैगावाट यूनिटों की इंटरलॉक प्रणाली के संचालन तथा रख –रखाव के महत्वपूर्ण कार्य किए हैं ।

    4.  इन्होंने लगभग 1½ वर्षों तक पीएसपीसीएल के निदेशक/उत्पादन के कार्यालय में बतौर अधीक्षण अभि‍यन्ता/तकनीकी कार्य किया तथा निदेशक/उत्पादन के अधीन सभी मुख्य अभियंताओं से घनिष्ठ समन्वय के साथ निर्णय लेने की प्रक्रिया में सहायता की।

    5. इन्होंने उप-मुख्य अभियंता /ईंधन, पीएसपीसीएल, पटियाला में लगभग 3 वर्षों तक कार्य किया जिसमें इन्होंने पीएसपीसीएल के सभी कोयला संयंत्रों के लिए कोयले की आपूर्ति प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ।  पछवाड़ा सेंट्रल कोल माइन के संचालन के लिए आवश्यक मंजूरी/लाइसेंस प्राप्त करने की जिम्मेदारी संभाली। पछवाड़ा सेंट्रल कोल माइन के संचालन के लिए एमडीओ के चयन की बोली के दस्तावेजों की तैयारी/प्रकाशन की जिम्मेदारी के रूप में सेवा प्रदान की।

    6.  दिनांक 3.5.2018 से 3.7.2018 तक पीएसपीसीएल में सीएमडी के मुख्य अभि‍यन्ता/ओएसडी का कार्य किया । इस पद पर रहते हुए सीएमडी, पीएसपीसीएल को प्रशासनिक एवं तकनीकी मुद्दों पर सहायता प्रदान की तथा दिनांक 5.7.2018 से बीबीएमबी चण्डीगढ़ में बतौर मुख्य अभियंता सेवारत  हैं । 

    उपलब्ध‍ियाँ :-

    1. जीजीएसएसटीपी में पीएलसी तथा ड्राई फलाई ऐश हैंडलिंग की न्युमैटिक प्रणाली का संचालनतथा जीजीएसएसटीपी की स्टेज-1 में ए.बी.बी. मेक  सकाडा (SCADA) आधारित इंटरलॉक प्रणाली को चालू करवाना। 

    2. कार्यकारी अभियंता (रखरखाव) के लिए उन्नत प्रशि‍क्षण कार्यक्रम में भाग लेन के लिए मार्च 2006 के दौरान केडब्ल्यूएस विद्युत तक‍नीकी ट्रेनिंग सेंटर,  जर्मनी का दौरा किया।

     

     

     

  • श्री संजय श्रीवास्तव (अतिरिक्त प्रभार)

    श्री संजय श्रीवास्तव (अतिरिक्त प्रभार)सदस्‍य (सिंचाई)

    श्री संजय श्रीवास्तव (अतिरिक्त प्रभार)

    श्री संजय श्रीवास्तव (अतिरिक्त प्रभार)

    सदस्‍य (सिंचाई)

    श्री संजय श्रीवास्तव, केन्द्रीय विद्युत प्राधीकरण (सीईए) के एक प्रतिष्ठित इंजीनियर, ने 11 नवम्बर, 2020 को भाखडा ब्यास प्रबंध बोर्ड के अध्यक्ष का कार्यभार ग्रहण किया। इसके साथ ही, श्री संजय श्रीवास्तव, अध्यक्ष/बीबीएमबी ने 05 जनवरी, 2021 को भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड (बीबीएमबी) के सदस्य / सिंचाई के पद का वर्तमान प्रभार भी ग्रहण किया।

            

  • श्री रघुराज माधव राजेंद्रन

    श्री रघुराज माधव राजेंद्रनसदस्‍य, भारत सरकार

    श्री रघुराज माधव राजेंद्रन

    श्री रघुराज माधव राजेंद्रन

    सदस्‍य, भारत सरकार
    संयुक्त सचिव (जल) विद्युत मंत्रालय
  • श्री पी.के. सक्सेना

    श्री पी.के. सक्सेनासदस्‍य, भारत सरकार

    श्री पी.के. सक्सेना

    श्री पी.के. सक्सेना

    सदस्‍य, भारत सरकार

    आयुक्त (सिंधु), भारत सरकार जल संसाधन मंत्रालय, नई दिल्ली।

    श्री पी.के. सक्सेना, जबलपुर विश्वविद्यालय से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक हैं और केन्द्रीय जल अभियांत्रिकी सेवा के अधिकारी हैं। इन्होंने वर्ष 1989 में केन्द्रीय जल आयोग में कार्य ग्रहण किया। इन्हें जल संसाधन परियोजनाओं की योजना एवं डिज़ाइन में 27 वर्ष से अधिक का अनुभव प्राप्त है जिनमें से ज्यादातर जल विद्युत क्षेत्र की परियोजनाएं हैं। ये भारत, नेपाल और अफगानिस्तान में अनेक प्रतिष्ठित जल विद्युत परियोजनाओं की डिज़ाइन से जुड़े रहे हैं। ये देश में स्नो हाइड्रोलोजी के क्षेत्र तथा जल संसाधन परियोजनाओं की निगरानी एवं मूल्यांकन से भी संबद्ध रहे हैं।

    ये एक दशक से भी अधिक अवधि से सिंधु जल समझौता 1960 से संबंधित मामलों से भी जुड़े रहे हैं और इन्होंने स्थायी सिंधु आयोग की विभिन्न बैठकों और दौरों में भारतीय पक्ष का प्रतिनिधित्व किया है।

    इन्होंने राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर के विभिन्न मंचों पर लगभग 23 शोध पत्र प्रस्तुत किए हैं।

    इस समय ये आयुक्त (सिंधु), जल संसाधन मंत्रालय, नदी विकास एवं गंगा पुनरुद्धार के रूप में कार्यरत हैं और स्थायी सिंधु आयोग सहित भारत और पाकिस्तान के बीच सिंधु जल समझौता 1960 तथा पंजाब, हरियाणा, जम्मू एवं कश्मीर, हिमाचल प्रदेश तथा राजस्थान के जल संसाधन विकास के अन्तर्राज्यीय पहलुओं से संबंधित कार्य देख रहे हैं।

  • श्री सर्वजीत सिंह

    श्री सर्वजीत सिंहसदस्‍य, पंजाब

    श्री सर्वजीत सिंह

    श्री सर्वजीत सिंह

    सदस्‍य, पंजाब

    प्रधान सचिव, पंजाब सरकार,  जल संसाधन, खान और भूविज्ञान विभाग, चंडीगढ़। 

     (1992 बैच )

    श्री सर्वजीत सिंह ने थापर अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी संस्थान, पटियाला (अब थापर यूनिवर्सिटी) से इलेक्ट्रानिक्स एवं कम्यूनिकेशन में (बी.टेक), प्रथम श्रेणी (स्वर्ण पदक) में स्नातक की उपाधि प्राप्त की और दिनांक 01.09.1993 को, उप मण्डल प्रशासन/भूमि राजस्व प्रबंधन तथा जिला प्रशासन में उप मण्डल अधिकारी (जूनियर स्केल) कैडर (एआईएस) के रूप में कार्यभार ग्रहण किया और वर्तमान में बतौर प्रधान सचिव, पंजाब सरकार, कैडर (एआईएस), जल संसाधन कार्य कर रहे हैं।

    इन्हें विभिन्न क्षेत्रों नामतः जल संसाधन एवं परिवहन विभाग, में प्रधान सचिव, वित्त, नगरपालिका प्रशासन/ शहरी विकास और शहरी आवास विभाग, में संयुक्त सचिव, नागरिक आपूर्ति/ उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं पीडी, ग्रामीण विकास, जिला प्रशासन/भूमि राजस्व प्रबंधन एवं जिला प्रशासन तथा आबकारी/वित्त विभागों में उप सचिव, आबकारी/वित्त, नगरपालिका प्रशासन/शहरी विकास, जिला प्रशासन/भूमि राजस्व प्रबंधन एवं जिला प्रशासन विभाग में अवर सचिव, उप मण्डल प्रशासन/भूमि राजस्व प्रबंधन एवं जिला प्रशासन विभाग में उप मण्डल अधिकारी (जूनियर स्केल) के रूप में कार्य करने का लगभग 27 वर्षों का व्यापक  अनुभव है।

  • श्री देवेन्‍द्र सिंह

    श्री देवेन्‍द्र सिंहसदस्य, हरियाणा

    श्री देवेन्‍द्र सिंह

    श्री देवेन्‍द्र सिंह

    सदस्य, हरियाणा

    अतिरिक्त मुख्य सचिव, सिंचाई एवं जल संसाधन और सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग, हरियाणा सरकार

    श्री देवेन्‍द्र  सिंह वर्तमान में हरियाणा सरकार के सिंचाई एवं जल संसाधन और सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव  हैं ।

    इन्‍होंने इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार में स्नातक की डिग्री दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, दिल्ली  तथा व्‍यवसाय प्रशासन (MBA) में स्‍नातकोत्‍तर  की डिग्री भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM), अहमदाबाद से प्राप्त की है। 

    वह वर्ष 1987 से हरियाणा संवर्ग में भारतीय प्रशासनिक सेवा का हिस्‍सा रहे हैं और लगभग 32 वर्षों तक सिविल सेवा में रहे हैं । वर्तमान विभागों से पहले इन्होंने एसीएस उद्योग और वाणिज्य, नागरिक उड्डयन और कौशल विकास और औद्योगिक प्रशिक्षण, एसीएस पर्यावरण, प्रशासनिक सुधार तथा एचजीआरए, प्रधान सचिव उद्योग और इलेक्ट्रॉनिक्स तथा सूचना प्राद्योगिकी, प्रधान सचिव विद्युत, सीएमडी यूएचबीवीएन तथा डीएचबीवीएन, भारत सरकार के उर्जा मंत्रालय में संयुक्त सचिव, उपायुक्त, गुरूग्राम (हरियाणा), उपायुक्त करनाल, निदेशक उद्योग तथा प्रबंध निदेशक, हरियाणा आपूर्ति एवं विपणन महासंघ के पदों पर कार्य किया है। वह हरियाणा डेयरी डेवलपमेंट कोऑपरेटिव फेडरेशन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक भी थे।

                           

  • डॉ. पृथ्वी राज

    डॉ. पृथ्वी राजसदस्‍य, राजस्‍थान

    डॉ. पृथ्वी राज

    डॉ. पृथ्वी राज

    सदस्‍य, राजस्‍थान

    सचिव -  जल संसाधन विभाग, इंदिरा गांधी नहर विभाग और सिंचित क्षेत्र  विकास ।

  • श्री आर.डी. धीमान

    श्री आर.डी. धीमानसदस्य, हिमाचल प्रदेश

    श्री आर.डी. धीमान

    श्री आर.डी. धीमान

    सदस्य, हिमाचल प्रदेश

    अतिरिक्त मुख्य सचिव, हिमाचल  प्रदेश सरकार,

    असाइनमेंट्स : एमपीपी , विद्युत एवं नान-कन्वेंसशनल एनर्जी सोर्सेज।

    संक्षिप्त बायोडाटा : मैं १९८८ से हिमाचल प्रदेश राज्य को आवंटित भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी हूं। मैं सिविल इंजीनियरिंग स्नातक हूं और उसके बाद एमए (शासन और विकास) इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज (आईडीएस), ससेक्स विश्वविद्यालय (यूके) से हूं। मैंने हिमाचल प्रदेश की राज्य सरकार में विभिन्न पदों पर काम किया है, जिसमें विभिन्न क्षेत्र की नौकरियां जैसे कि सब डिविजनल मजिस्ट्रेट / जिला मजिस्ट्रेट 6-7 वर्षों के लिए हैं। मैंने ग्रामीण विकास और पंचायती राज, खाद्य और नागरिक आपूर्ति, उत्पाद शुल्क और कराधान, सहकारिता, कृषि, श्रम और रोजगार, सामाजिक न्याय और अधिकारिता, पशुपालन, उद्योग, तकनीकी शिक्षा, उच्च और प्राथमिक जैसे विभिन्न विभागों के लिए विभाग प्रमुख के रूप में कार्य किया। शिक्षा, एमपीपी और पावर और एनसीईएस (डिस्कॉम) और एचपी के सीएमडी राज्य विद्युत बोर्ड। मैं हिमाचल प्रदेश सरकार के प्रारंभिक शिक्षा, उच्च शिक्षा, खाद्य और नागरिक आपूर्ति, सामाजिक न्याय और अधिकारिता, उद्योग, तकनीकी शिक्षा, बागवानी, एमपीपी और बिजली आदि विभागों में सचिव, ग्रामीण विकास और पंचायती राज, प्रधान सचिव भी रह चुका हूं। मैंने अतिरिक्त मुख्य सचिव (कार्मिक, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, पर्यावरण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और प्रशिक्षण और विदेशी असाइनमेंट) और हिमाचल प्रदेश राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में भी काम किया है। वर्तमान में, मैं अतिरिक्त मुख्य सचिव (एमपीपी और पावर / एनसीईएस / उद्योग / श्रम और रोजगार) और अध्यक्ष, एच.पी. स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड लिमिटेड ।

Back to Top